best-hindi-bhakti-poem-new

गोदी में खेलती हैं
जिसकी हज़ारों नदियाँ
गुलशन है जिनके दम से
रश्क-ए-जिनाँ हमारा।
मज़हब नहीं सिखाता
आपस में बैर रखना
हिंदी हैं हम वतन है
हिंदुस्तान हमारा।

Poem Submitted By : Dil Comments

Leave a comment

Ad code here9
Ad code here3
Ad code here6
Ad code here7