चंदा मामा गोल मटोल-best hindi bal kavita

चंदा मामा गोल मटोल,
कुछ तो बोल, कुछ तो बोल।
कल थे आधे, आज हो गोल
खोल भी दो अब अपनी पोल।
रात होते ही तुम आ जाते ,
संग साथ सितारे लाते।
दिन में न जाने कहां छिप जाते,
कुछ तो बोल, कुछ तो बोल।

Poem Submitted By : Dil Comments

Leave a comment

Ad code here9
Ad code here3
Ad code here6
Ad code here7